भारतीय त्योहार सूची 2021 (भारतीय त्योहार, 2021, 2022 तिथियां)

हर देश के अपने त्यौहार होते हैं, लेकिन भारत में, त्यौहार भारत के लोगों के लिए सब कुछ हैं। हर पारिवारिक प्रेम, आपसी भाईचारा और सामाजिक व्यवस्था त्योहारों के मुख्य बिंदु हैं। लोग अपने धार्मिक त्योहार के लिए 1 साल इंतजार करते हैं और उस दिन बहुत खुश होते हैं। हिंदू अपना त्योहार मान्यताओं के आधार पर मनाते हैं। और वे हिंदी पंचांग का अनुसरण करते हैं। मौसम में बदलाव के अनुसार, त्योहार आते हैं और उनके जीवन को खुशहाल बनाते हैं भारत में कई संस्कृतियां हैं, इसलिए कई विचारधाराओं और मान्यताओं के आधार पर विभिन्न त्योहार मनाए जाते हैं।

 

भारतीय सांस्कृतिक महोत्सव तिथियां / Indian Cultural Festival Dates

त्यौहार का नाम 2021 2022
दिवाली / Diwali 4 नवंबर 24 अक्टूबर
दशहरा / Dussehra 15 अक्टूबर 5 अक्टूबर
होली / Holi 29 मार्च 18 मार्च
जन्माष्टमी / Janmashtami 30 अगस्त 18 अगस्त
गणेश चतुर्थी / Ganesh Chaturthi 10 सितम्बर 31 अगस्त
रक्षाबंधन / Rakshabandhan 22 अगस्त 11 अगस्त
ईद / eid 13 मई 9 जुलाई
क्रिसमस / Chritsmas 25 दिसंबर 25 दिसंबर
गुरु नानक जयंती / Guru nanak Jayanti 19 नवंबर 8 नवंबर

भारत के अन्य धार्मिक त्यौहार (Indian religious festivals)

त्यौहारों का नाम 2021 2022
महाशिव रात्रि / Maha shiv ratri 11 मार्च 1 मार्च
फुलेरा दूज / Fulera Dooj 15 मार्च 4 मार्च
गुड फ्राइडे / Good Friday 2 अप्रैल 15 अप्रैल
ईस्टर  / Easter 4 अप्रैल 17 अप्रैल
रंग पंचमी / Rang Panchmi 2 अप्रैल 22 मार्च
गुड़ी पड़वा / Gudi Parva 13 अप्रैल 2 अप्रैल
राम नवमी / Ram Navmi 21 अप्रैल 10 अप्रैल
गणगौर / Garndgaur 15 अप्रैल 18 मार्च
अक्षय तृतीया / Akshay Tritya 14 मई 3 मई
बुद्ध पूर्णिमा / Budh Purnima 26 मई 16 मई
गंगा दशहरा / Ganga Dussehra 20 जून 6 जून
मिथुना संक्राती / Midhuna Sankranti 15 जून 15 जून
जगन्नाथ रथ यात्रा / Jagarnath Rath 12 जुलाई 1 जुलाई
जयापार्वती व्रत / Jayaparvati vrat 25 जुलाई 11 जुलाई
हरियाली तीज / Hariyali Teej 11 अगस्त 31 जुलाई
नाग पंचमी / Naag Panchmi 13 अगस्त 2 अगस्त
उपाकर्म / Upakarma 22 अगस्त
कजरी तीज / Kajri Teej 25 अगस्त 14 अगस्त
बहुला चौथ / Bahula Chauth 25 अगस्त 15 अगस्त
हर छठ / Har Chath 28 अगस्त 17 अगस्त
पर्युषण / Pryushan 4 सितंबर
हरतालिका तीज / Hartalika Teej 9 सितंबर 30 अगस्त
ऋषि पंचमी / Rishi Panchmi 11 सितंबर 1 सितंबर
संतान सप्तमी / Santaan Saptmi 14 सितंबर 4 सितंबर
राधा अष्टमी/ महालक्ष्मी व्रत / Radha Ashtmi/Mahlaxmi vrat 13 सितंबर 17 सितंबर
अनंत चतुर्दशी / Anant chaturdashi 19 सितंबर 30 अगस्त
श्राद्ध / Shraad 20 सितंबर – 6 अक्टूबर 10 सितंबर – 25 सितंबर
जीवित्पुत्रिका / Jivitraputrika 28 सितंबर
नवरात्री / Navratri 7 अक्टूबर 26 सितंबर
बठुकम्मा महोत्सव / Badhukmma 6 अक्टूबर
नवपत्रिका पूजा / Navpatrika Pooja 12 अक्टूबर 2 अक्टूबर
सरस्वती पूजा / Saraswati Pooja 16 फरवरी 5 फरवरी
शरद पूर्णिमा / कोजागरी व्रत / Sharad Poornima 19 अक्टूबर 9 अक्टूबर
करवाचौथ / Karvachaudh 24 अक्टूबर 13 अक्टूबर
अहौई अष्टमी / Ahoi Astami 28 अक्टूबर 17 अक्टूबर
धनतेरस / Dhanteras 2 नवंबर 23 अक्टूबर
नरक चतुर्दशी / Narak Chaturdhi 4 नवंबर 24 अक्टूबर
आद्य काली पूजा / Aaag kali pooja 4 नवंबर 24 अक्टूबर
गोवर्धन पूजा/ अन्नकूट / Govardhan 5 नवंबर 26 अक्टूबर
भैया दूज/ यम द्वितीया / Bhaiya dooj 6 नवंबर 26 अक्टूबर
छठ पूजा / Chadh Pooja 10 नवंबर 30 अक्टूबर
गोपाष्टमी / Gopashtmi 11 नवंबर 1 नवम्बर
अक्षय आँवला नवमी / Akshay Avla Navmi 12 नवंबर 24 नवम्बर
जगद्धात्री पूजा / Jagarnath Pooja 12 नवंबर
तुलसी विवाह / Tulsi Pooja 15 नवंबर 20 नवम्बर
वैकुण्ठ चतुर्दशी / Vaikundh Chaturdashi 17 नवंबर 27 नवम्बर
मणि कर्णिका स्नान / Mani Karnika Snan 18 नवंबर
विवाह पंचमी / Vivah Panchmi 8 दिसंबर 28 नवम्बर
मंडला पूजा / Mandla Pooja 27 दिसंबर 27 दिसम्बर

ग्यारस / एकादशी व्रत तिथी  (Dates of Ekadashi vrat):

एकादशी / ग्यारस व्रत हिंदू कैलेंडर में एक महीने की प्रत्येक ग्यारहवीं तिथि को लिया जाता है और वर्ष के प्रत्येक महीने में दो तिथियां होती हैं, एक शुक्ल पक्ष और एक कृष्ण पक्ष। भगवान विष्णु एकादशी व्रत के स्वामी हैं। भक्त अपनी इच्छा के लिए एकादशी का व्रत रखते हैं। हिंदू संस्कृति में एकादशी व्रत का बहुत महत्व है। मनुष्य अपने कष्टों को दूर करने के उद्देश्य से इस व्रत का पालन करता है। वर्ष में 26 एकादशी व्रत देखे जाते हैं। सभी एकादशी व्रतों के पीछे एक हिंदू पौराणिक कहानी है, जिसमें एकादशी का उद्देश्य और भावना निहित है।
एकादशी नाम पक्ष 2021 2022
सफला / Safla
कृष्ण 8 जनवरी 19 दिसम्बर
पौष पुत्रदा / Posh Putrada
शुक्ल 24 जनवरी 13 जनवरी
षष्ठीला / Sasdhila
कृष्ण 7 फरवरी 28 जनवरी
जया / Jaya
शुक्ल 22 फरवरी 12 F
विजया / Vijaya
कृष्ण 8 मार्च 27
आमलकी / Aamlaki
शुक्ल 24 मार्च 14 मार्च
पापमोचिनी / Papmochini
कृष्ण 7 अप्रैल 28 मार्च
कामदा / Kamda
शुक्ल 23 अप्रैल 12 अप्रैल
वरुठिनी / Varudhini
कृष्ण 6 मई 26 अप्रैल
मोहिनी / Mohini
शुक्ल 22 मई 12 मई
अपरा / Apra
कृष्ण 5 जून 26 मई
निर्जला / Nirjala
शुक्ल 21 जून 11 जून
योगिनी / Yogini
कृष्ण 5 जुलाई 24 जून
देव शयनी / Dev Shyni
शुक्ल 20 जुलाई 10 जुलाई
कामिका / Kamika
कृष्ण 3 अगस्त 24 जुलाई
पुत्रदा / Putrda
शुक्ल 18 अगस्त 8 अगस्त
अजा / Aja
कृष्ण 2 सितम्बर 23 अगस्त
परिवर्तिनी/ डोल ग्यारस / Parvatni
शुक्ल 17 सितम्बर
इंदिरा / Indira
कृष्ण 2 अक्टूबर 21 सितंबर
पापांकुशा / Papakusha
शुक्ल 16 अक्टूबर 6 अक्टूबर
रमा / Rama
कृष्ण 1 नवंबर 21अक्टूबर
प्रबोधिनी/ देव उठनी / Dev Uthni
शुक्ल 14 नवंबर 4 नवम्बर
उत्पन्ना / Utrapatra
कृष्ण 30 नवंबर 20 नवम्बर
मोक्षदा / Mokshda
शुक्ल 14 दिसंबर 3 दिसम्बर
पद्मिनी (अधिक मास) / Padmini
कृष्ण
परमा (अधिक मास) / Parma
शुक्ल

पूर्णिमा व्रत ( Purnima Vrat Date):

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, एक महीने (शुक्ल कृष्ण) में दो भाग होते हैं, जो अमावस से पूर्णिमा और पूर्णिमा से अमावस के बीच होते हैं। इसलिए हर साल 12 पूर्णिमा आती है। पूर्णिमा के दिन या एक दिन पहले, सत्यनारायण और पूजा की कहानी सुनना जीवन में सहायक होता है। पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपने पूर्ण रूप में होता है, और इस दिन उपवास रखना महत्वपूर्ण होता है, और हिंदू धर्म के बड़े नियमों के रूप में मनाया जाता है।

निम्न सारणी में पुरे वर्ष में आने वाली पूर्णिमा का महत्व बताया गया हैं :

मासिक पूर्णिमा महत्व 2021 2022
चैत्र / Chaitra
हनुमान जयंती 27 अप्रैल 16 अप्रैल
वैशाख / Vaishakh
बुद्ध जयंती 26 मई 16 मई
ज्येष्ठ / Jyaistha वट सावित्री 10 जून 29 मई
आषाढ़ / Ashadh
गुरू पूर्णिमा 13 अप्रैल 13 जुलाई
श्रावण पूर्णिमा / Shravan Poornima
 रक्षाबंधन 22 अगस्त 11 अगस्त
भाद्रपद पूर्णिमा / Bhadrapad Poornima
श्राद्ध/ पितृ 20  सितम्बर 9 सितंबर
आश्विन / Ashwin
शरद पूर्णिमा 19 अक्टूबर 9 अक्टूबर
कार्तिक पूर्णिमा / Kartik Poornima
18 नवंबर 8 नवम्बर
अग्रहण्य पूर्णिमा / Agrahna Poornima
18 दिसंबर
पौष पूर्णिमा / Posh Poornima
28 जनवरी 17 जनवरी
माघ / Magh
माघ मेला 26 फरवरी
फाल्गुन / Phalgun
होली 29 मार्च 18 मार्च

मासिक अमावस्या व्रत:

मासिक पूर्णिमा महत्व 2021 2022
चैत्र / Chaitra चैत्र अमावस्या 11 अप्रैल 31 मार्च
वैशाख / Vaishakh बैसाख अमावस्या 11 मई 30 अप्रैल
ज्येष्ठ / Jyaistha शनि जयंती 10 जून 30 मई
आषाढ़ / Ashadh सोमवती अमावस्या 12 अप्रैल 28 जून
श्रावण / Shravan
श्रावण अमावस्या 8 अगस्त 27 जुलाई
भाद्रपद / Bhadrapad
पिठोरी अमावस्या, चन्द्र ग्रहण 6 सितम्बर
आश्विन / Ashwin
सर्व पितृ अमावस्या 6 अक्टूबर 24 सितम्बर
कार्तिक / Kartik
दीवाली 4 नवंबर
अग्रहण्य / Agrahnya
मार्गशीर्ष अमावस्या 3 दिसंबर 24 नवम्बर
पौष / Posh
पौष अमावस्या
पौष / Posh
12 जनवरी
माघ / Magh
मौनी अमावस्या 11 फरवरी 12 फरवरी
फाल्गुन / Phalgun
सूर्य ग्रहण 12 मार्च

किसान के कटाई त्यौहार (Farmers Seasonal and Harvesting Festivals)

त्यौहार का नाम 2021 2022
लोहड़ी / Lohri
13 जनवरी 5 फरवरी
मकर संक्रांति / Makar Sankranti
14 जनवरी 14 जनवरी
बसंत पंचमी / Basant Panchmi
16 फरवरी 5 फरवरी
बैसाखी / Baisakhi
14 अप्रैल 14 अप्रैल
ओणम / Onam
12 अगस्त 8 सितंबर
पोला / Pola
6 सितंबर

अन्य महत्वपूर्ण मासिक त्यौहार एवम पवित्र माह :

महीने की हर तारीख का इसमें एक विशेष महत्व होता है और इसीलिए प्रत्येक तिथि को हर महीने की विशेष तिथियों के रूप में माना जाता है। यहां कुछ महत्वपूर्ण मासिक त्योहार और महीने हैं।
नाम विवरण
कालाष्टमी / Kalashastmi
कृष्ण पक्ष अष्टमी
प्रदोष / Prdosh
प्रति हिंदी माह त्रयोदशी
मासिक शिव रात्रि / Masik Shiv Ratri
प्रति हिंदी माह चतुर्दशी
संकष्टी चतुर्थी / Sankshti Chaturthi
हर माह कृष्ण पक्ष के चौथे दिन संकष्टी चतुर्थी आती है|
भानु सप्तमी / Bhanu Saptmi
जब सप्तमी के दिन रविवार होता हैं
स्कन्दा षष्ठी / Skanda Sasthi
जब शुक्ल पक्ष पंचमी और षष्ठी एक साथ आये
रोहिणी व्रत / Rohini Vrat
जब सूर्योदय के बाद रोहिणी नक्षत्र श्रेष्ठ होता है
सत्य नारायण पूजा / Satya Narayan Pooja
पूर्णिमा एवं उसके एक दिन पूर्व/ प्रति माह संक्रांति
मंगला गौरी / गौरी पूजा / Mangla Gori
 सावन माह के हर मंगलवार को मंगला गौरी व्रत होता है
धनुर्मास / Dhanurmas
विष्णु भक्तों के लिए अत्यधिक शुभ
श्रावण/ सावन महत्व / Shravan
पवित्र माह
अधिक मास महत्व / Adhik Mass
पवित्र माह जो तीन वर्ष में आता हैं
कोकिला व्रत / Kokila Vrat
यह योग 19 वर्षो में बनता हैं, जब अधिक मास आषाढ़ में आता हैं
कार्तिक माह महत्व / Kartik Mah
पवित्र माह
चातुर्मास/ चौमासा / Chaturmas
अर्ध अषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन एवं अर्ध कार्तिक
महाकुम्भ नासिक / Mahakumbh Nasik
सूर्य,वृहस्पति जब सिंह राशि में प्रवेश करते हैं
महाकुम्भ उज्जैन / Mahakumbh  Ujjain
जब सूर्य और वृहस्पति वृश्चिक राशि में प्रवेश करते हैं|

इस्लामिक त्यौहार ( Islamic Festival Dates):

भारत एक ऐसा देश है जहाँ सभी धर्मों का सम्मान किया जाता है और एक साथ मनाया जाता है और धर्म की स्वतंत्रता है। भारत में इस्लामिक त्योहार उत्साह के साथ मनाया जाता है जो प्यार और शांति को दर्शाता है। कुछ इस्लामी त्योहारों का वर्णन नीचे किया गया है।
नाम 2021
ईद / Eid
13 मई
रमजान / Ramjan
अप्रैल 12-12 मई
बकरीद / Bakried
19 जुलाई
अल हिजरा इस्लामिक न्यू इयर / Islamin New Year
9-10 अगस्त
मुहर्रम/ आशुरा / Mohram
19 अगस्त
भारत की सुंदरता यह है कि सभी धर्म यहाँ हैं और पूरे देश में प्रेम, एकता, भाईचारे के साथ मनाया जाता है और एक सामाजिक व्यवस्था को दर्शाता ह|
इस पृष्ठ पर, हमने उन सभी त्योहारों की व्याख्या की है जो भारत में मनाए जाते हैं, और यदि आप कुछ अलग जानते हैं तो आप कमेंट बॉक्स में अपनी राय दे सकते हैं।

 

You can also read these topics:
योग आसन सीखें
सूर्य नमस्कार सीखें